परीक्षा में पूछे गए आरक्षण संबंधी सवाल पर विधानसभा में हंगामा

mp_assemblyभोपाल। माध्यमिक शिक्षा मंडल की बारहवीं के हिंदी विषय के प्रश्न पत्र में निबंध लेखन के लिए ‘जातिगत आरक्षण देश के लिए घातक’ संबंधी एक विषय दिए जाने पर विधानसभा में आज जमकर हंगामा हुआ। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीताशरण शर्मा को कार्यवाही दो बार स्थगित करना पड़ी तो वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार और कांग्रेस विधायक मुकेश नायक के बीच व्यक्तिगत टीका टिप्पणियों से कार्यवाही और हंगामे पूर्ण हो गई।

लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष पीए संगमा और पूर्व सांसद पवन दीवान के निधन पर विधानसभा में आज श्रद्धांजलि दिए जाने के बाद सदन की कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई तो विपक्ष के सदस्यों ने इस मुद्दे को उठाने का प्रयास किया लेकिन अध्यक्ष ने प्रश्नकाल के बीच में इसकी अनुमति नहीं दी। प्रश्नकाल समाप्त होने के बाद फिर से विपक्ष के नेता बाला बच्चन, राम निवास रावत, मुकेश नायक ने इस विषय को उठाने का प्रयास किया और कहा कि उन्होंने इस संबंध स्थगन प्रस्ताव की सूचना भी दी है।

इस बीच स्पीकर ने स्थगन प्रस्ताव की सूचना सदन के शुरू होने के ठीक दो घंटे पहले दिए जाने पर ही चर्चा में शामिल किए जाने की बात कहते हुए विपक्ष को शांत करने का प्रयास किया और संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने नियमों का हवाला देते हुए इसे रखा। मगर विपक्ष के सदस्य स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा के लिए अड़े रहे।

विपक्ष के बाला बच्चन, अजय सिंह, मुकेश नायक, रामनिवास रावत, सुंदरलाल तिवारी, जीतू पटवारी, लाखन सिंह यादव, सचिन यादव, तरुण कुमार भनोत ने एकसाथ बोलना शुरू कर दिया। उनके स्वर में स्वर मिलाया बहुजन समाज पार्टी की दो महिला विधायकों शीला त्यागी और उषा चौधरी ने।

वहीं सत्ता पक्ष की ओर से वन मंत्री डॉ. शेजवार, सहकारिता मंत्री गोपाल भार्गव, संसदीय कार्य डॉ. मिश्रा, यशपाल सिंह सिसौदिया, रामेश्वर शर्मा ने विपक्ष के हंगामे के बीच कहा कि इन्हें किसानों की चिंता नहीं है। गरीबों की बात नहीं करते। सही बात तो यह है कि ये लोग ही आरक्षण नहीं चाहते। भार्गव ने कहा कि कांग्रेस के आरक्षित वर्ग के नेता शिवभानुसिंह सोलंकी पार्टी ने सीएम नहीं बनने दिया।

मुकेश नायक-शेजवार में नोंकझोंक

आरक्षण को लेकर सदन में सबसे ज्यादा हंगामा वन मंत्री डॉ. शेजवार पर मुकेश नायक के सीधे हमले के बाद हुआ। शेजवार ने उन्हें ही आरक्षण विरोधी कहा और कहा कि वे प्रवचनों में भी आरक्षण के खिलाफ बातें ककरते हैं। वहीं नायक ने शेजवार पर हमला किया कि आप जिस वर्ग से आते हो, उसके खिलाफ ही यहां बातें करते हो। जिसकी बदौलत कुर्सी मिली है, उसका ही विरोध कर रहे हो। डॉ.शेजवार के बार-बार अपनी सीट से उठने पर स्पीकर ने हिदायत भी दी।

Comments are closed.