20 रुपए किराए के लालच में ऑटो में बैठे, गंवाया एक लाख का सोना

goldभोपाल । ऑटो चालक द्वारा हबीबगंज नाका से रोहित नगर तक मात्र 20 रुपए में छोड़ देने का लालच एक बुजुर्ग दंपती को महंगा सौदा साबित हुआ। ऑटो में पहले से सवारी बनकर बैठे बदमाशों ने उनके बैग में से पर्स गायब कर दिया, जिसमें करीब एक लाख रुपए का सोना रखा था। मामले की शिकायत शाहपुरा थाने में की गई है।

रिटायर्ड शिक्षक 73 वर्षीय दीनदयाल तिवारी रेहटी के पास बाया में रहते हैं। उनके बेटे का रोहित नगर फेस-2 में मकान है। तिवारी के परिवार में रविवार को डीआईजी बंगला क्षेत्र में मंडप का कार्यक्रम था। इस सिलसिले में दीनदयाल तिवारी अपनी पत्नी रुकमणि देवी के साथ शनिवार सुबह 11 बजे बस से हबीबगंज नाका पर उतरे थे। पति-पत्नी नाका स्थित गणेश मंदिर के सामने पहुंचे, वहां एक ऑटो रिक्शा चालक मिला।

उसने पूछा कि उन्हें कहां तक जाना है। ऑटो में पहले से पीछे तीन सवारी बैठी थी। उसने कहा कि वह रोहित नगर तक 20 रुपए में छोड़ देगा। पीछे बैठी सवारियां रास्ते में उतर जाएंगी। काफी कम किराया होने के लालच में रुकमणि देवी पीछे बैठ गईं, जबकि बुजुर्ग को ऑटो चालक ने अपने साथ आगे की सीट पर बैठा लिया। उनका बैग पीछे की सीट के पीछे रख दिया।

सीसीटीवी कैमरों से बचने घुमाकर ले गया

ऑटो चालक और उसके साथी काफी शातिर थे। वे दंपती को दस नंबर बाजार वाले रास्ते के बजाए अरेरा कॉलोनी की अंदर की सड़कों से शाहपुरा होते हुए लाया। बीच में उसने यह कहकर तिवारी दंपती को उतर जाने को कहा कि ऑटो का पेट्रोल खत्म हो गया है। लेकिन एतराज जताने पर वह उन्हें मुकाम तक छोड़कर चला गया।

बैग खोला तो घटना का पता चला

बेटे के घर पहुंचने पर रुकमणि देवी ने बैग खोला तो सन्ना रह गईं। बैग के अंदर रखा उनका छोटा पर्स गायब था। उसमें करीब ढाई तोला सोने की चेन, दो अंगूठी और एक हजार रुपए नकद रखे हुए थे। तिवारी ने घटना की लिखित शिकायत शाहपुरा थाने में की है। लेकिन न तो वह ऑटो का नंबर देख पाए, न ही उन्हें आरोपियों का हुलिया ठीक से याद रहा। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Comments are closed.