पुलिस ने बाल विवाह रोका, दूल्हा-पंडित समेत 5 गिरफ्तार

raifebरायपुर(निप्र)। राजधानी से लगे माना कैंप में सोमवार की देर रात बाल विवाह होते देखकर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर विवाह को तत्काल रुकवा दिया और मामले में दूल्हा समेत विवाह कर रहे पंडित, दूल्हा के पिता, दुल्हन की मां और पिता को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

माना टीआई विरेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि सोमवार की रात 1 से 2 बजे के बीच पुलिस की पेट्रोलिंग पार्टी गश्त में थी, तभी जानकारी मिली कि माना कैंप के 4 ब्लॉक स्थित इंदिरा आवास में एक नाबालिग का विवाह कराया जा रहा है। बारात बेहद गुपचुप तरीके से ओडिशा के नवरंगपुर जिले के पानपुर गांव से आई थी और विवाह का कार्यक्रम एक कमरे में संपन्ना हो रहा था।

पुलिस टीम ने तत्काल मौके पर दबिश देकर वैवाहिक कार्यक्रम को बीच में ही रुकवा दिया। पहले तो लड़की व लड़के वालों ने पुलिस की इस कार्रवाई का विरोध किया, लेकिन जब पुलिस ने लड़की की उम्र का प्रमाणपत्र मांगा तो सबने चुप्पी साध ली। कड़ाई बरतने पर आखिरकार लड़की का जन्म प्रमाणपत्र परिवार वालों ने पेश किया। प्रमाणपत्र का अवलोकन करने पर लड़की की उम्र करीब 16 साल पाई गई।

इसके बाद पुलिस ने नाबालिग लड़की के पिता और मां के अलावा दूल्हा बने सरजीत पांडेय (23) तथा उसके पिता सुरेश पांडेय समेत विवाह करा रहे पंडित वासुदेव चक्रवर्ती को गिरफ्तार कर लिया। मामले में आरोपियों के खिलाफ धारा 9, 10, 11, बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 206 के तहत अपराध कायम कर मंगलवार को सभी को कोर्ट में पेश किया गया, जहां उन्हें जेल भेज दिया गया।

पुलिस को देख भागने लगे थे बाराती

विवाह समारोह में शामिल होने दूल्हे की तरफ से काफी कम संख्या में बाराती, रिश्तेदार ओडिशा से आए हुए थे। आधी रात जब पुलिस ने इंदिरा आवास में दबिश दी तो वहां पर हड़कंप मच गया। पुलिस को देखकर कुछ बाराती इधर-उधर भागने की कोशिश करने लगे, लेकिन पुलिस टीम ने किसी को भी बाहर नहीं निकलने दिया। पूछताछ के बाद जब यह साफ हो गया कि जिस लड़की का विवाह कराया जा रहा है, उसकी उम्र मात्र 16 साल ही है। यह जानते हुए भी दूल्हा पक्ष के लोगों ने रिश्ता तय कर लिया था।

Comments are closed.