जेल की दीवार फांदकर भाग गए थे सिमी आतंकी, तीन साल बाद पकड़ाए

simiखंडवा। तीन वर्ष पहले खंडवा जिला जेल के दीवार फांदकर फरार हुए सिमी आतंकियों में से दो समते चार आतंकियों को पुलिस ने ओडिशा के राउरकेरा से गिरफ्तार कर‍ लिया है। गिरफ्तारी से पहले पुलिस और आतंकियों के बीच करीब तीन घंटे तक फायरिंग हुई। आरोपियों की पहचान शेख महबूब उर्फ गुड्डू उर्फ मलिक, अमजद उर्फ दाऊद, मोहम्मत असलम उर्फ बिलाल और जाकिर हुसैन उर्फ सादिक के रूप में हुई है।

6 आतंकी भाग निकले थे

खंडवा जिला जेल से 30 सितंबर वर्ष 2013 की दरमियानी रात 2 से 2.30 बजे के बीच जेल की दीवार कूदकर सिमी के सात आतंकी फरार हुए थे। जिसकी जानकारी दूसरे दिन सुबह जेल प्रशासन को लगी। सात में से एक सिमी आतंकी आबिद मिर्जा जेल के पास सर्वोदय कालोनी से कुछ घंटो बाद ही पकड़ा गया।

तेलंगाना में एनकाउंटर के दौरान दो मारे गए

छह फरार सिमी आतंकियों में से अबु फैसल पिता इमरान को मध्यप्रदेश एटीएस ने 24 दिसम्बर 2013 में बड़वानी जिले के सेंधवा से गिरफ्तार किया था। वहीं दो आतंकी असलम और एजाजुद्दीन को हैदराबाद के तेलंगाना में हुए पुलिस इनकाउंटर में मार गिराया गया। तब बताया गया था की असलम खंडवा का और एजाजुद्दीन नरसिंहगढ़ का रहने वाला है।

तीन घंटे तक हुई मुठभेड़

सूत्रों के मुताबिक, इन चारों ने राउरकेला के कुरैशी मोहल्ला में किराए पर एक फ्लैट लिया हुआ था। स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप, तेलंगाना पुलिस और राउरकेला पुलिस ने मिलकर इस ऑपरेशन को अंजाम दिया। इन चारों की गिरफ्तारी से पहले मुठभेड़ रिहायशी इलाके में हुई, लेकिन राहत की बात यह रही कि इसमें किसी को चोट नहीं आई।

डीजी केबी सिंह ने बताया, ‘ये चारों सिमी के लिए मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश और उत्तर प्रदेश में काम कर रहे थे। ये चारों राउरकेला में अपनी पहचान छिपाकर रह रहे थे। राउरकेला में डकैती करके ये अपने ऑपरेशनों को अंजाम देते थे। चारों मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं और एनआईए की वॉन्टेड लिस्ट में भी हैं। इनके पास से 5 गन और गोला-बारूद बरामद किया गया है। इंटेलीजेंस ब्यूरो के डायरेक्टर अरुण सारंगी ने बताया कि चारों ने एक बैंक भी लूटा था।

Comments are closed.