कर्नाटक चुनावः सोनिया का PM पर हमला, मोदीजी पर कांग्रेस मुक्त भारत का भूत सवार है

0

बीजापुर। कर्नाटक में चुनाव प्रचार चरम पर है और सभी दलों के दिग्गज नेताओं ने मैदान संभाल रखा है। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तकरीबन दो साल बाद चुनावी रैली को संबोधित किया। इस दौरान सोनिया गांधी ने पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा।

सोनिया गांधी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि वे मानती हैं कि पीएम मोदी बहुत अच्छे वक्ता हैं। उन्होंने कहा कि उनके भाषण से यदि देश की भूख मिट पाती तो उन्हें खुशी होती, लेकिन पेट की भूख अन्न से शांत होती है, बातों से नहीं।

उन्होंने कहा कि मोदीजी पर कांग्रेस मुक्त भारत का जुनून सवार है, उन्हें इसका भूत लगा हुआ है। कांग्रेस मुक्त भारत तो छोड़िए वे अपने सामने किसी को बर्दाश्त नहीं कर सकते। मोदीजी जहां भी जाते हैं गलत बात कहते हैं और ऐतिहासिक तथ्यों को तोड़-मरोड़ देते हैं। मोदीजी केवल अपने राजनीतिक फायदे के लिए देश के इतिहास के हमारे नायकों के नाम का इस्तेमाल करते हैं। उन्होंने कहा कि क्या एक प्रधानमंत्री को ऐसा शोभा देता है।

सोनिया गांधी ने कर्नाटक को राहत खर्च में भी कम बजट आवंटन का मुद्दा उठाते हुए कहा, ‘सूखे से प्रभावित सभी राज्यों को केंद्र द्वारा मुआवजा दिया गया, लेकिन कर्नाटक को बहुत कम राशि दी गई। यह कर्नाटक के किसानों के जख्मों पर नमक छिड़कने जैसा है। मैं मोदी से पूछना चाहती हूं कि क्या यही है आपका ‘सबका साथ, सबका विकास’।’

सोनिया गांधी ने पीएम मोदी से सवाल किया कि भ्रष्टाचार मिटाने के आपके सबसे अहम वादे का क्या हुआ। आखिर इतने समय तक लोकपाल क्यों नहीं लाया? आपके भ्रष्टाचार मिटाने का क्या मॉडल है।

इस बीच सोनिया ने सवाल किया कि मोदी सरकार ने चार साल पहले जो वादा किया था, वो कौन सा वादा पूरा किया। सोनिया गांधी ने कहा कि सिद्धारमैया सरकार ने इंदिरा कैंटीन शुरू की, जिसके तहत 10 रुपए में खाना मिलता है।

केंद्र की मोदी सरकार कर्नाटक के साथ भेदभाव कर रही है। कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार ने कर्नाटक को नंबर वन बनाया है। सोनिया गांधी ने कहा कि जिन राज्यों में सूखा पड़ा, उनको केंद्र की मोदी सरकार ने करोड़ो रुपए दिया, लेकिन कर्नाटक के साथ भेदभाव किया। सोनिया ने कहा कि हमने गरीबों की हालत बेहतर करने के अथक मेहनत की है। हमने मनरेगा योजना की शुरुआत जिस पर मोदी जी और भाजपा ने आपत्ति दर्ज कराई थी।

आपको बता दें कि सोनिया गांधी ने पिछली बार 2 अगस्त 2016 को वाराणसी में रोड शो किया था। उसी दौरान तबीयत खराब होने के बाद चुनाव प्रचार से दूरी बना ली थी। वहीं, राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद भी यह पहली बार है, जब मां सोनिया गांधी चुनाव प्रचार करने जा रही हैं।

71 साल की सोनिया ने इससे पहले पंजाब, गोवा, उत्तराखंड, मणिपुर (फरवरी-मार्च 2017), गुजरात और हिमाचल प्रदेश (दिसंबर 2017), त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड (फरवरी 2018) में प्रचार नहीं किया था। सोनिया 1998 में सक्रिय राजनीति में आई थीं और यह पहला मौका है जब वे इतने लंबे समय तक चुनाव प्रचार से दूर रहीं। उन्होंने 11 जनवरी 1998 में अपना पहला चुनावी दौरा किया था। तब तमिलनाडु में एक रैली को संबोधित किया था।

बहरहाल, कर्नाटक के कांग्रेस नेताओं का कहना है कि सोनिया के रैली से कार्यकर्ताओं में उत्साह बढ़ेगा और मतदाताओं को भी बड़ा संदेश जाएगा। कर्नाटक में विधानसभा की 224 सीटों पर 12 मई को एक चरण में मतदान होगा। वहीं मतगणना 15 मई को होगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.