बेंगलुरु में 9 हजार से ज्यादा वोटर आईडी कार्ड बरामद, भाजपा-कांग्रेस ने लगाए एक-दूसरे पर आरोप

0

बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए 12 मई को मतदान है और इसके चार दिन पहले ही बेंगलुरु में एक फ्लैट से 9746 वोटर आईडी कार्ड बरामद हुए हैं। इन आईडी कार्ड्स के बरामद होने के बाद राज्य की राजनीति में हड़कंप मच गया है। भाजपा और कांग्रेस इस मामले में एक-दूसरे पर आरोप लगाने में लगे हैं।

जानकारी के अनुसार बेंगलुरु के जलाहल्ली इलाके में एक फ्लैट से चुनाव आयोग के फ्लाइंग स्क्वाड ने यह कार्ड्स बरामद किए हैं। यह इलाका राजराजेश्वरी नगर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। वोटर आईडी कार्ड्स के बरामद होने के बाद जहां कांग्रेस ने भाजपा पर आरोप लगाने शुरू कर दिए हैं वहीं भाजपा ने आरोप लगाया है कि जहां से कार्ड बरामद हुए वो कांग्रेस नेता का फ्लैट है।

कार्ड्स की बरामदगी के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए राज्य के मुख्य चुनाव आयुक्त संजीव कुमार ने कहा कि इसके खिलाफ उचित फैसला लिया जाएगा। यह गंभीर मामला है और इसका फैसला हम यहां नहीं कर सकते। बरामद कार्ड्स में से कुछ फर्जी भी है साथ ही यह भी देखना है कि वो वास्तव में किसी वोटर के हैं भी या नहीं।

उन्होंने आगे कहा कि प्रारंभिक जांच में 9746 वोटर आईजी कार्ड्स वोटर्स के हैं जो सही पाए गए हैं। हालांकि, फर्जी कार्ड्स के महत्व के बारे में आगे की जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

भाजपा-कांग्रेस के आरोप

वोटर आईडी कार्ड बरामद होने के बाद भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने हैं। जहां भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि कांग्रेस लोगों का समर्थन खो रही है इसलिए वो अलोकतांत्रिक तरीके से राज्य में होने वाले चुनाव को प्रभावित करने में लगी है।

वहीं कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मंजूला नंजामुरी जिसके नाम पर फ्लैट है वो भाजपा नेता है और उन्होंने अपना फ्लैट किराए पर दे रखा है। उन्होंने 2015 में भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था।

इसके जवाब में जावड़ेकर ने कहा कि मंजूला नंजामुरी से भाजपा का कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने 6 साल पहले भाजपा छोड़ दी थी और अब वो एक कांग्रेस नेता हैं। कांग्रेस केवल भाजपा पर आरोप लग रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.