राजगढ़ में सौ साल से अधिक उम्र के 151 वोटर, 1952 से डालते आ रहे वोट

0

राजेश शर्मा, राजगढ़। जिले में सौ साल से अधिक उम्र के 151 वोटर ऐसे हैं, जो 1952 से वोट डालते आ रहे हैं। उनके मत का उपयोग हर उस चुनाव में हुआ है, जिसके बाद प्रदेश की सरकार बनी है।

जिला निर्वाचन द्वारा तैयार की गई मतदाता सूचियों में 100 साल प्लस वाले मतदाताओं की संख्या 151 सामने आई है। जिसमें सर्वाधिक मतदाता राजगढ़ विधानसभा क्षेत्र में हैं।

राजगढ़ विस क्षेत्र में ऐसे मतदातओं की संख्या 46 है, जबकि सबसे कम मतदाता खिलचीपुर विस क्षेत्र में 08 है। इसके अलावा जिले की हर विधानसभा क्षेत्र में ऐसे में मतदाता सामने आए हैं जो अपने जीवन का शतक लगा चुके हैं। वह आने वाले मतदान वाले दिन भी विधानसभा चुनाव के लिए मतदान करेंगे।

पहले आम चुनाव से करते आ रहे मतदान

जिले में जो 151 मतदाता है, वह उस समय युवा हो गए थे, जब देश में वोट ही नहीं डलते थे। उनकी मानें तो वो 1952 में हुए पहले आम चुनाव से ही मतदान करते आ रहे हैं। 66 साल से वह स्वतंत्र भारत में हो रहे मतदान की स्थिति को देखते आ रहे हैं। 1951 में आए जनप्रतिनिधत्व अधिनियम के बाद 52 में हुए आमचुनाव में उन्हें मतदान करने का गौरव प्राप्त हुआ था। 100 पार करने के बाद जरूर अधिकांश का यह पहला चुनाव है।

पहले आम चुनाव में थी 32 साल उम्र

पचोर तहसील के सराली गांव के रहने वाले अनारसिंह की उम्र इस वक्त 101 वर्ष है। वो देश में आजादी के बाद 1952 में हुए पहले आमचुनाव से मतदान करते आ रहे हैं। 1952 में पहला लोकसभा चुनाव हुआ था और उसमें भी उन्होंने अपने मताधिकार का उपयोग किया था। वह बताते हैं कि उस समय उनकी उम्र करीब 32-33 साल रही होगी। उनके मुताबिक वोटिंग की सुविधा जरूर गांव में ही थी, इसलिए वोट डालने में दिक्कत भी नहीं होती थी।

हर चुनाव में डाला है वोट

सराली गांव के ही रहने वाले मांगीलाल की उम्र फिलहाल 105 साल है। वह अपने जीवन का शतक पूरा करने के बाद अब दूसरी बार मतदान करेंगे। 2013 के मतदान के समय ही उनकी उम्र 100 साल थी। पहली बार उन्होंने भी 1952 में गांव में ही मतदान किया था। इसके बाद से अभी तक वह अपने मताधिकार का उपयोग करते आ रहे हैं।

शतक के बाद पहली बार मतदान

राजगढ़ विधानसभा क्षेत्र के अधीन आने वाले हलवापुरा गांव के अमरसिंह गुर्जर की उम्र 102 साल बताई जा रही है। जीवन का शतक पूरा करने के बाद वह पहली बार अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। उनके परिजनों की मानें तो यह भी 1952 से अपने मताधिकार का उपयोग करते आ रहे हैं।

103 साल की उम्र में डालेंगे वोट

तलावड़ा गांव के रहने वाले किशनलाल की उम्र 103 साल है। वह भी जीवन का शतक पूरा करने के बाद पहली बार अपने मत का उपयोग करेंगे। इससे पहले उन्होंने पहली बार 1957 के विधानसभा चुनाव में अपने मताधिकार का उपयोग किया था।

कई सरकारें बनती व बिगड़ती देखी

सराली गांव के रहने वाले अनारसिंह के पुत्र रामस्वरूप, बालाराम, भागीरथ प्रसाद आदि बताते हैं कि हमारे गांव में इन लोगों ने देश व प्रदेश में कई सरकारों को बनते और बिगड़ते हुए देखा है। उन्होंने बताया कि अब उम्र काफी हो चुकी है, लेकिन कई बार वह राजनीति के किस्से सुनाते रहे हैं। वह बताते थे कि पहली बार जब वोट डले तो गांव में मुनादी कराई गई कि जिले का मुखिया चुनने के लिए हमें वोट डालना है। वोट डलवाने के लिए जो टीम आई थी उन्होंने ही गांव में मुनादी कराई थी।

37 हजार डालेंगे पहली बार वोट

जानकारी के मुताबिक जिले में युवा मतदातओं की संख्या भी खासी है। इस बार जिले की पांचों विधानसभा सीटों के लिए 37007 मतदाताओं द्वारा अपने मताधिकार का उपयोग किया जाएगा। यह वह लोग हैं जिनकी उम्र 18 से 19 वर्ष के बीच है। इसके अलावा 20 से 29 वर्ष के बीच के मतदाताओं की संख्या जिले में 2 लाख 76 हजार 92 है।

100 साल प्लस वाले मतदाताओं की संख्या

विस क्षेत्र संख्या

नरसिंहगढ़ 43

ब्यावरा 25

राजगढ़ 46

खिलचीपुर 08

सारंगपुर 29

Leave A Reply

Your email address will not be published.