पीड़ित छात्रों ने शनिवार को शिकायत दर्ज कराई है। फर्स्ट ईयर के सभी छात्रों की ओर से दर्ज की कराई गई बेनामी शिकायत में कहा गया है उन्हीं के विभाग के सेकंड ईयर व फाइनल के ईयर के छात्र उन्हें शारीरिक और मानसिक तौर पर प्रताड़ित कर रहे हैं। वे उन्हें दिन-दिन भर अस्पताल में खड़ा रखते हैं। खाना नहीं खाने देते। दिन-रात काम करवाते हैं।

बेवजह यहां-वहां भेजते हैं। साथ ही अच्छे से बात नहीं करते। पीड़ित छात्रों ने जिन सीनियर्स के नाम बताए हैं उनमें लड़कियां भी हैं। रैगिंग का मामला अस्पताल परिसर का है। बता दें कि जीएमसी दो साल के भीतर तीन बार रैगिंग की शिकायत आ चुकी है। इसके पहले दोनों बार एमबीबीएस फर्स्ट ईयर के छात्रों ने हॉस्टल में रैगिंग की शिकायत की थी।

छात्रों से आज होगी पूछताछ

जीएमसी के डीन डॉ. एमसी सोनगरा ने बताया कि आरोपी छात्रों से सोमवार को पूछताछ की जाएगी। उन्होंने कहा कि फर्स्ट ईयर में छात्रों को ज्यादा काम करना पड़ता है। लिहाजा कई छात्र उसे अन्यथा लेते हैं।