19 साल बाद आया ज्येष्ठ में अधिक मास, 16 मई से मंदिरों में यज्ञ अनुष्ठान

0

इंदौर। प्रत्येक तीन साल में एक बार आने वाला भगवान विष्णु का प्रिय पुरुषोत्तम मास इस बार 16 मई से 13 जून तक रहेगा। शहर के मठ-मंदिरों में भागवत पारायण, लक्ष्मीनारायण यज्ञ सहित विभिन्न अनुष्ठान होंगे। अधिक मास की तैयारियां जानकीनाथ मंदिर गोराकुंड, हंसदास मठ और श्री श्रीविद्याधाम में शुरू हो गई हैं।

ज्योतिर्विद् पं. ओम वशिष्ठ के अनुसार पुरुषोत्तम मास प्रत्येक तीन साल में आता है। शास्त्रों में इस माह में दान, पुण्य, तीर्थयात्रा, कथा, यज्ञ एवं धार्मिक अनुष्ठान का महत्व विशेष बताया गया है। ज्येष्ठ अधिक मास इस बार 19 साल बाद आ रहा है। इससे पहले 1999 में आया था। 2037 में दोबारा आएगा। 2015 में आषाढ़ में अधिक मास आया था। अधिक मास के दौरान मांगलिक कार्य नहीं होते हैं।

जानकीनाथ मंदिर गोराकुंड : 36 वर्ष से जारी है सिलसिला

श्री माहेश्वरी पंचायती ट्रस्ट द्वारा पुरुषोत्तम मास के दौरान श्रीमद् भागवत एवं रामायण पारायण, पांच दिवसीय लक्ष्मीनारायण महायज्ञ एवं अन्य धार्मिक अनुष्ठान 108 विद्वान ब्राह्मणों के सान्निध्य में सीतलामाता बाजार गोराकुंड चौराहा स्थित जानकीनाथ मंदिर में आयोजित किए जाएंगे। अध्यक्ष रमेश सी. बाहेती एवं सचिव आशीष दम्माणी ने बताया कि ट्रस्ट द्वारा पिछले 36 वर्षों से लगातार प्रत्येक पुरुषोत्तम मास में धर्म एवं संस्कृति के रक्षार्थ उक्त आयोजन किए जा रहे हैं।

श्री श्रीविद्याधाम में 108 भागवत पारायण

एरोड्रम रोड स्थित श्री श्रीविद्याधाम में महामंडलेश्वर स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती के सान्निध्य में 108 विद्वानों द्वारा भागवत का मूल पारायण, पूजन-अर्चन किया जाएगा। आचार्य पं. राहुलकृष्ण शास्त्री द्वारा भागवत कथा सुनाई जाएगी। श्रीमद् भागवत सेवा भक्त मंडल के तत्वावधान में 16 से 22 मई तक चलने वाले अनुष्ठान में 108 यजमान परिवारों के अलावा आम श्रद्धालु भी शामिल होंगे। प्रतिदिन अन्य धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे।

हंसदास मठ में 51 भागवत पारायण

पीलियाखाल बड़ा गणपति क्षेत्र स्थित प्राचीन हंसदास मठ में 16 मई से 13 जून तक 51 भागवत पारायण महंत रामचरणदास के सान्निध्य में होगा। मठ के पं. पवन शर्मा ने बताया कि आयोजन पितृ शांति एवं पितृ कृपा प्राप्ति के उद्देश्य से प्रतिदिन सुबह 9 से दोपहर 12 एवं शाम 4 से 7 बजे तक होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.