प्रशासन-हिंदू कार्यकर्ता अड़े, आज धार बंद

0

धार। बसंत पंचमी पर मां वाग्देवी की पालकी यात्रा निकालने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। प्रशासन और वाग्देवी मां सरस्वती जन्म महोत्सव समिति के पदाधिकारी अपने-अपने निर्णयों पर अड़ गए हैं। कलेक्टर ने यात्रा को गैर परंपरागत बताते हुए अनुमति देने से इनकार कर दिया है। जब्त प्रतिमा भी नहीं लौटाई जाएगी। इसके विरोध में मंगलवार शाम समिति ने रैली निकालकर बुधवार को धार बंद का आह्वान कर दिया। जगह-जगह बल तैनात कर दिया गया। शहर में धारा 144 लागू कर दी गई है।
यह है मामला-धार में हर साल महाराजा भोज उत्सव समिति शोभायात्रा, धर्मसभा आयोजित करती है। पिछले वर्ष एकाएक वाग्देवी मां सरस्वती जन्म महोत्सव नाम से नई समिति सामने आई और उसने भी अष्टधातु की चलित प्रतिमा की पालकी यात्रा निकालने का ऐलान कर दिया। प्रशासन ने यात्रा की अनुमति नहीं दी थी और यात्रा के सूत्रधारों को गिरफ्तार कर ग्वालियर से लाई जा रही उक्त प्रतिमा जब्त कर ली थी। बाद में सिर्फ तेल चित्र के साथ शोभायात्रा निकाली गई। उसी जब्त प्रतिमा को छुड़ाने और पालकी यात्रा को अनुमति देने की मांग को लेकर पांच दिन से पूर्व प्रचारक का अनशन चल रहा है।
अनशनकारी की तबीयत बिगड़ी- मां वाग्देवी की जब्त प्रतिमा छोड़ने की मांग को लेकर प्रशासन के खिलाफ 100 घंटे से अनशन कर रहे संघ के पूर्व प्रचारक नवलकिशोर शर्मा की तबीयत बिगड़ गई है। डॉक्टरों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती करने की सलाह दी है। 24 घंटे में वजन में दो किग्रा की गिरावट दर्ज की गई। यूरीन में कीटोन पॉजीटिव मिले हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.