J&K में पीडीपी,अब कांग्रेस के साथ करेगी सियासी जुगलबंदी

FB_IMG_1454426111911नई दिल्ली.भाजपा के नेताओ और PDP प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने आज J&K के गवर्नर एन एन बोहरा से मुलाकत की.
पर नतीजा कुछ नहीं निकला,वही पुराना स्टेंड.
मुफ्ती मोहम्मद सईद की तुलना में महबूबा कुछ ज़्यादा ही कट्टर हैं.मुफ्ती के समय भी भाजपा और पीडीपी के गठबंधन के पक्ष में नहीं थीं.वह इस बात से भी बे फिक्र हैं कि उनके बिना ना तो नेशनल कांफ्रेंस सरकार बना सकती और न ही भाजपा और काँग्रेस ही ऐसा कर सकती हैं और न ही कोई और विकल्प है.ऐसे में इस मसले को जितनालटकाया जाय उतना ही उसका फायदा उन्हें मिलेगा.
साथ ही पीडीपी सोचती है कि यदि विधान सभा भंग होती है तो नये चुनाव में पीडीपी को मुफ्ती की मौत से उपजी सहानुभूति का फायदा भी मिलेगा और भाजपा और नेशनल कांफ्रेंस की सीटें कम हो सकती हैं.
महबूबा का अलगावादियों से ज़्यादा लगाव रहा है.
आज महबूबा ने गवर्नर बोरा से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से बात करते हुए केन्द्र सरकार पर हमला करते हुए कहा कि उसे देश का विश्वास जितना चाहिए और विश्वास की बहाली करना चाहिए.
दूसरे मुफ्ती मोहम्मद सईद की मौत के बाद सोनिया गाँधी से मुलाकात के बाद इस बात के कयास भी लगे कि पीडीपी काँग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना सकती है.शायद महबूबा इसी विकल्प को आजमा सकती हैं.
इससे वे जम्मूकश्मीर के मुस्लिमों की नाराजी दूर कर सकती हैं.वही कांग्रेस को भी एक राज्य में ऐसी सरकार चाहिए जिसमें उसकी भागीदारी तो हो ही वही वह केजरीवाल और नीतीश कुमार की तरह मोदी और केन्द्र सरकार को कोस सके.

Comments are closed.