इंदौर। एमवाय अस्पताल में भर्ती मंदसौर सामूहिक दुष्कर्म कांड की पीड़ि‍त बच्ची की हालत में अब सुधार होने लगा है। अस्पताल ने बच्ची के स्वास्थ्य को लेकर मेडिकल बुलेटिन जारी किया है। इसमें बताया गया है कि डॉक्टरों की टीम ने बच्ची को वार्ड में पैदल चलवाया है। आईसीयू में वह कुछ कदम तक चली। सोमवार शाम बच्ची को आईसीयू से प्राइवेट वार्ड में शिफ्ट किया जाएगा। पीड़ि‍ता को अभी खाने में फल और लिक्विड दिया जा रहा है। एमवायएच अधीक्षक डॉ वीएस पाल ने जानकारी दी है।

इसके पहले रविवार को मुंबई के बाम्बे अस्पताल से आए पीडिएट्रिक चिकित्सक रवि रामाद्वार ने आईसीयू में जाकर बच्ची का चेकअप किया था। उनके अलावा दो मनोचिकित्सक स्वाति प्रसाद व भास्कर प्रसाद ने भी बच्ची व माता पिता की काउंसलिंग की। डॉक्टरों ने बताया कि इलाज के दौरान उसके स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देना जरूरी है तभी यह पता चलेगा उसकी रिकवरी कैसे व किस तेजी से हो रही है। एमवाय अस्पताल में इलाज बेहतर किया जा रहा है। इसलिए उसे कहीं बाहर ले जाने की आवश्यकता नहीं है। यहां सेटअप व डॉक्टर्स की पूरी व्यवस्था है।

खिलखिलाई व खाने में क्या पसंद यह बताया

बच्ची की मानसिक स्थिति का पता लगाने मनोचिकित्सक स्वाति प्रसाद ने आधा घंटा बच्ची से काउंसलिंग की। इस दौरान बच्ची ने धीमे स्वर में ही सही पर उन्हें अपनी पसंद की चीजों, खिलौनों व खाने में क्या पसंद है इसकी जानकारी दी। माता-पिता व परिवार को वह पहचान रही है। वहीं पसंद के गाने सुनने पर हल्की सी खिलखिलाई भी। मनोचिकित्सक ने बताया बच्ची सभी को पहचान रही है।

वह मानसिक रूप में संतुलन में है यह उसके स्‍वस्‍थ होने के लिए जरूरी है। उसने खाने में क्या पसंद है, कौन सा गाना पसंद है यह तक बताया। मनोचिकित्सक भास्कर प्रसाद ने बच्ची के पैरेंट्स की काउंसलिंग कर उनके मानसिक तनाव को जानने की कोशिश की।