इंदौर में फिर बना ग्रीन कॉरिडोर, ‘दिल’ भेजा मुंबई

greenइंदौर। शहर में एक बार फिर ग्रीन कॉरिडोर बनेगा। सड़क हादसे में घायल 21 साल के युवक को डॉक्टरों द्वारा ब्रेनडेड घोषित किए जाने के बाद परिजन ने उसके अंग दान करने का फैसला लिया। शनिवार सुबह उसका हृदय मुंबई भेजा गया। जबकि एक और कॉरिडोर बनाकर लिवर गुड़गांव भेजा जाएगा। सुबह 12.30 बजे चोइथराम अस्पताल से एयरपोर्ट तक ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया। अरबिंदो अस्पताल के लिए भी ग्रीन कॉरिडोर बनाया जाएगा।

मूलतः खेतिया निवासी दुर्गेश पिता प्रेमराज मालवीय 2 मार्च को सड़क हादसे में गंभीर घायल हो गया था। उसे मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके सिर पर चोट आई थी। शुक्रवार को डॉक्टरों ने उसे ब्रेनडेड घोषित किया।

इसके बाद परिवार ने बेटे के अंग दान करने का कठोर निर्णय लिया। दुर्गेश के रिश्तेदार इंदौर में इंद्रपुरी में रहते हैं। अंगदान समिति के डॉ. संजय दीक्षित ने बताया कि अंगदान के लिए शुक्रवार रात तक दुर्गेश की प्राथमिक जांचें हो चुकी थीं।

दुर्गेश की दो किडनियों में से एक चोइथराम अस्पताल में और दूसरी अरबिंदो अस्पताल में भर्ती मरीज को प्रत्यारोपित की जाएगी। लिवर मेदांता अस्पताल गुड़गांव भेजा जाएगा। दिल फोर्टिस अस्पताल मुंबई भेजा गया है। नेत्र और त्वचा भी दान की जाएगी। दोबारा जांच के लिए दुर्गेश को चोइथराम अस्पताल शिफ्ट किया गया है।

मुंबई में धड़क चुका है सोनिया का दिल

इसके पहले मालवीय नगर निवासी 22 साल की सोनिया को ब्रेनडेड घोषित कर उसका दिल फोर्टिस अस्पताल मुंबई भेजा गया था। यहां 16 साल की एक किशोरी को प्रत्यारोपित किया गया।

Comments are closed.