उनके मुताबिक इस मौसम में सबसे ज्यादा प्रभाव श्वसन तंत्र और पाचन तंत्र पर प्रभाव पड़ता है। पाचन तंत्र पर प्रभाव पड़ने से अपच, गैस, लूज मोशन, डायरिया आदि हो जाता है। वहीं श्वसन तंत्र पर प्रभाव पड़ने से अस्थमा, साइनस जैसी समस्याएं हो जाएगी। इस मौसम में रोगाणु बहुत ज्यादा पनपते हैं। लेकिन अगर नियमित रूप से कुछ आसन करते हैं तो आपकी इम्यूनिटी बढ़ जाती है और श्वसन तंत्र भी मजबूत होता है।

डॉ. शर्मा ने उत्तानपादासन, हलासन, पवनमुक्तासन, नौकासन, भुजंगासन, वक्रासन जैसे आसन करने की सलाह दी। उन्होंने कुछ कफ से निजात पाने, सर्दी-जुकाम से बचने के लिए उन्होंने प्राणायाम भी बताए। उन्होंने कपालभाती, नाड़ी शोधन प्राणायाम, उज्जैयी प्राणायाम करने की सलाह दी।

किसी भी मौसम में योग से शारीरिक, मानसिक और आत्मिक तीनों स्तर पर स्वास्थ्य लाभ प्राप्त किया जा सकता है।