अरविंद केजरीवाल के घर पहुंची पुलिस, CM ने कहा- अमित शाह के खिलाफ भी हो जांच

0

नई दिल्ली। दिल्ली में मुख्य सचिव के साथ मारपीट मामले दिल्ली पुलिस इसकी जांच तेजी से कर रही है। इसी कड़ी में पड़ताल करते हुए पुलिस मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर पहुंची। खबरों के अनुसार डीसीपी हरिंदर सिंह के नेतृत्व में यहां लगे सीसीटीवी में घटना की रात वाली फुटेज खंगालने के अलावा स्टाफ से भी पूछताछ कर रही है।

पुलिस की कर्रवाई को लेकर पहली बार मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का बयान आया है। उन्होंने कहा कि जितनी शिद्दत से इस मामले की जांच हो रही है मुझे खुशी है, होनी चाहिए, लेकिन मैं जाच एजेंसियों से कहना चाहता हूं कि जज लोया के कत्ल जांच में अमित शाह से भी पूछताछ की हिम्मत दिखाए तो देश उनकी बधाई देगा।

इस कार्रवाई के इतर दूसरी तरफ जहां आज गिरफ्तार आप विधायकों की जमानत पर सुनवाई होनी है वहीं मुख्यमंत्री केजरीवाल के सलाहकर वीके जैन ने अपना बयान बदल दिया है। इसके बाद अब माना जा रहा है कि घटना के वक्त सीएम आवास पर मौजूद अन्य विधायकों की गिरफ्तारी भी तय है।

दिल्‍ली पुलिस घटना वाली रात मुख्यमंत्री आवास में मौजूद अन्य विधायकों व आप नेताओं के बारे में जानकारी जुटा रही है। यह भी तय है अगर उन विधायकों पर कार्रवाई हुई तो इसकी आंच अरविंद केजरीवाल और मनीष सीसोदिया तक आना तय है।

केंद्रीय मंत्री से मिले आईएएस अधिकारी

मुख्य सचिव अंशु प्रकाश द्वारा अपने साथ मारपीट के आरोप लगाए जाने के बाद आईएएस अधिकारियों का एक दल केंद्रीय मंत्री जीतेंद्र सिंह से मिलने पहुंचा। मुलाकात के बाद सिंह ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि आज की बैठक में जो भी आईएएस एसोसिएशन के अधिकारी थे वो अपनी बात रखना चाहते थे। उन्हें जो दिल्ली प्रशासन से दिक्कते हैं वो शिकायतें डिटेल में बताईं।

सिंह आगे बोले कि हमें उन्हें काम करने के लिए अच्छा माहौल देना चाहिए। अधिकारियों का सर्वश्रेष्ठ काम लेना चाहिए। हमें उन्हें अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए प्रेरित करना चाहिए ताकि वो देश के हित में काम कर सकें।

अरिवंद केजरीवाल का फंसना तय

इस मामले में मुख्यमंत्री के सलाहकार वीके जैन ने सात लोगों के नाम लिए हैं। जैन ने कोर्ट में साफ कहा कि मुख्य सचिव के साथ ‘आप’ विधायकों ने मारपीट की शुरुआत की थी, लेकिन मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री ने बचाने की कोई कोशिश नहीं की। दिल्‍ली पुलिस ने शुरू से ही मुख्‍यमंत्री के सलाहकार वीके जैन को ही पूछताछ के केंद्र में रखा। पुलिस की यह रणनीति सफल हुई। दिल्ली पुलिस अब इस बात की भी जांच कर रही है कि कहीं यह घटना मुख्‍यमंत्री के इशारे पर तो नहीं की गई।

इस बड़े सवाल का जवाब पुलिस भी खोज रही है कि अगर यह घटना पूर्व नियोजित नहीं थी तो रात में मुख्‍यमंत्री आवास पर मुख्‍य सचिव को बुलाने के क्‍या औचित्‍य और निहितार्थ हैं। आखिर केजरीवाल के आवास पर इतनी देर रात आप विधायक के रुकने के क्‍या औचित्‍य था। इस मामले में मुख्‍यमंत्री ने इस्‍तक्षेप क्‍यों नहीं किया। हालांकि, जब पुलिस ने उनसे पूछताछ की थी तब जैन पूरे मामले पर बचते हुए नजर आए थे। तीन घंटे तक चली पूछताछ में उन्होंने सिर्फ अपने कार्यकाल के बारे में बताया था।

मुख्य सचिव के FIR में क्‍या है

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने मंगलवार को आरोप लगाया था कि आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक अमानतुल्लाह खान और एक अन्य विधायक ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सामने उनके सरकारी आवास में उनसे मारपीट की थी। एफआईआर के मुताबिक, मुख्यमंत्री के सलाहकार वीके जैन ने मुख्य सचिव को सोमवार की रात पौने नौ बजे फोन पर कहा कि सरकार के तीन साल पूरा होने पर कुछ टीवी विज्ञापनों के प्रसारण में हो रही देरी पर बातचीत होगी। इसके लिए रात 12 बजे मुख्यमंत्री आवास पहुंचना है। वहां सीएम व उप मुख्यमंत्री उनसे विचार-विमर्श करेंगे। जैन ने रात नौ बजे और फिर घंटे भर बाद भी फोन किया। रात 11.20 बजे जैन ने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश फिर फोन किया था।

14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजे गए दो विधायक

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ हुई बदसुलूकी के मामले में दिल्ली सरकार को उस वक्त बड़ा झटका लगा जब तीस हजारी कोर्ट ने आप के आरोपी विधायकों अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जारवाल को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। फिलहाल दोनों विधायकों की जमानत याचिका पर कोर्ट आज सुनवाई होगी।

LG ने गृह मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट

उधर, दिल्ली के मुख्य सचिव से मारपीट मामले पर एक रिपोर्ट उपराज्यपाल अनिल बैजल ने गृह मंत्रालय को सौंप दी है। गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि उन्हें दिल्ली के उपराज्यपाल से एक रिपोर्ट मिली है। इस पर विचार चल रहा है। दिल्ली पुलिस इस मामले के आपराधिक पहलू को देख रही है, जबकि गृह मंत्रालय इस रिपोर्ट के प्रशासनिक मुद्दों को देख रहा है।

सामने आई मेडिकल रिपोर्ट

दिल्‍ली के मुख्‍य सचिव अंशु प्रकाश से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर मारपीट के मामले में यह बात सामने आई है कि इस हाथापाई के दौरान मुख्‍य सचिव को चोट आई है। मंगलवार देर रात उनका मेडिकल टेस्ट कराया गया था, जिसमें खुलासा हुआ है कि उनके शरीर पर चोट के निशान हैं। मेडिकल रिपोर्ट में अंशु के माथे के दाईं तरफ चोट के निशान हैं, दोनों कानों के पीछे सूजन, होठों पर चोट के निशान, दाएं गाल पर सूजन की बात भी सामने आई है।

घटना का LIVE विवरण

सीएम आवास पर पहुंचने पर मुख्य सचिव को जैन मिले और उन्हें एक कमरे में ले गए। वहां मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री सहित 11 विधायक व अन्य लोग थे। वह तीन सीट वाले सोफे पर अमानतुल्लाह और एक अन्य व्यक्ति के साथ बैठे। इस बीच एक विधायक ने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया। बकौल अंशु प्रकाश, मुख्यमंत्री ने उन्हें विज्ञापन पास करने में हो रही देरी पर विधायकों के सवालों का जवाब देने को कहा। इस पर अंशु प्रकाश ने कहा कि विज्ञापन का प्रसारण सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देश पर ही संभव है। इस पर कई विधायक चिल्लाने और गालियां देने लगे।

जान बचाकर भागे प्रकाश

एक विधायक ने जातिसूचक शब्द कहते हुए जान से मारने की धमकी दी। इसी दौरान सोफे पर बैठे अमानतुल्लाह व एक अन्य विधायक मुख्य सचिव को पीटने लगे। उन्हें सिर पर मारा गया, जिससे उनका चश्मा गिर गया। वह लिफ्ट की ओर बढ़े तो खींचकर मारा गया। उनका मोबाइल फोन तोड़ दिया गया। बकौल अंशु प्रकाश, वह किसी तरह जान बचाकर कमरे से भागे और बाहर अपनी गाड़ी लेकर वहां से निकल गए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.