casino royale watch online with subtitles niagara falls shows casino best online casino canada watch casino online for free wild jack casino new online casino slots casino rama hotel phone number casino online casino royale book online free 32red casino canada doubledown casino codeshare online elements casino surrey yukon gold casino avis playground casino interac deposit online casino magical spin casino no deposit bonus how far is sand hills casino from portage la prairie grand mondial casino canada reviews

हैदराबाद ब्लास्ट केस : दो आरोपी दोषी करार, 2 हुए बरी

0

हैदराबाद। हैदराबाद में 11 साल पहले हुए दोहरे बम धमाके के मामले में फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने दो आरोपियों को दोषी करार दिया है वहीं दो अन्य को बरी कर दिया है। 2007 में हुए इस दोहरे बम धमाके के मामले में कोर्ट ने अनीक शफीक सईद और इस्माइल चौधरी को दोषी करार दिया है।

इनके अलावा एक अन्य आरोपी पर फैसला 10 सितंबर को आएगी। धमाकों के मामले में आरोपी दो अन्य फरार हैं।

यह धमाके शहर के गोकुल चाट और लुंबिनी पार्क में हुए थे जिनमें 42 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 50 लोग घायल हो गए थे। बम धमाके के मामले में चार आरोपियों के खिलाफ मुकदमा चल रहा है।

आरोपियों के खिलाफ चल रहे मुकदमे को इस साल जून महीने में नामपल्ली कोर्ट परिसर में स्थित एक अदालत से हैदराबाद में चेरलापल्ली सेंट्रल जेल के परिसर में स्थित कोर्ट हॉल में स्थानांतरित कर दिया गया था। सत्र न्यायाधीश श्रीनिवास राव ने सात अगस्त को दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुनाने के लिए 27 अगस्त का दिन तय किया था। हालांकि, 27 अगस्त को भी फैसला नहीं आया जिसके बाद आज कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है।

पीड़ितों के परिवार के सदस्यों और रिश्तेदारों ने शनिवार को 25 अगस्त, 2007 को हुए दो विस्फोटों की 11वीं बरसी मनाई। तेलंगाना पुलिस की काउंटर इंटेलिजेंस (सीआई) ने इस मामले की जांच की थी और आरोपियों के खिलाफ तीन आरोप पत्र दायर किए थे। आरोपियों में से कुछ आजतक फरार हैं।

अगस्त 2013 में दूसरी मेट्रोपॉलिटन सत्र न्यायाधीश अदालत ने अनिक शफीक सैयद, मोहम्मद सादिक, अकबर इस्माइल चौधरी और अंसार अहमद बधसा शेख के खिलाफ आरोप लगाए थे। ये सभी इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी थे। सभी अभियुक्तों पर धारा 302 (हत्या) और आइपीसी के अन्य प्रासंगिक प्रावधानों व विस्फोटक पदार्थ अधिनियम एक्ट के तरह दोहरे बम धमाके में आरोप तय किए गए।

ये था पूरा मामला

अक्टूबर 2008 में महाराष्ट्र आतंकवाद विरोधी दल (एटीएस) ने आरोपियों को गिरफ्तार किया था और बाद में गुजरात पुलिस ने उन्हें अपनी कस्टडी में ले लिया। चारों आरोपी वर्तमान में चेरलापल्ली सेंट्रल जेल में बंद हैं। केस के ट्रायल के दौरान करीब 170 प्रत्यक्षदर्शियों के बयानों की जांच की गई।

बता दें कि 25 अगस्त, 2007 को हैदराबाद के गोकुल चैट में एक लोकप्रिय भोजनालय में हुए विस्फोट में 32 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि राज्य सचिवालय के कुछ मीटर की दूरी पर स्थिति लुंबिनी पार्क में ओपेन एयर थिएटर में 10 लोगों की जान चली गई थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.